अलर्ट जारी: भारत-नेपाल बॉर्डर की सुरक्षा बढ़ी ,गणतंत्र दिवस पर घुसपैठ की आशंका

मुजफ्फरपुर (मानवीय सोच) गणतंत्र दिवस को लेकर सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) ने भारत-नेपाल सीमा पर सुरक्षा व्यवस्था चौकस कर दी है। सीमा पर तैनात सभी 12 बटालियन को नियमित तौर पर बॉर्डर पेट्रोलिंग, जांच और तलाशी अभियान चलाने का भी निर्देश दिया गया है।

भारत-नेपाल का बॉर्डर खुला हुआ है। इससे संदिग्धों के प्रवेश की आशंका बनी रहती है। गणतंत्र दिवस 26 जनवरी को बिहार सहित पूरे देश में मनाया जाना है। इस दौरान खुफिया एजेंसियों ने आशंका जतायी है कि भारत-नेपाल बॉर्डर के खुले होने की वजह से संदिग्ध उस रास्ते भारत में प्रवेश कर सकते हैं। साथ ही आपराधिक घटनाओं को अंजाम भी दे सकते हैं, जिसे लेकर मुख्यालय ने एसएसबी को अलर्ट किया है।

एसएसबी के मुजफ्फपुर सेक्टर डीआईजी रंजीत ने कहा है कि उनके सभी बटालियन अलर्ट हैं। मिले निर्देशों का शत-प्रतिशत पालन कर रहे हैं। साथ ही खुफिया इनपुट भी जुटा रहे हैं, जिसके आधार पर आगे की कार्रवाई भी की जा रही है।

बिहार से 631 किलोमीटर में लगा है भारत-नेपाल का बॉर्डर

भारत-नेपाल का बॉर्डर 631 किलोमीटर में बिहार से लगा हुआ है। इसकी निगरानी स्थानीय पुलिस के साथ एसएसबी की 12 बटालियन करती है, जिसकी मॉनिटरिंग मुजफ्फरपुर, बेतिया और पूर्णिया सेक्टर के डीआईजी करते हैं। पश्चिम चंपारण, पूर्वी चंपारण, सीतामढ़ी, मधुबनी, सुपौल और अररिया से भारत-नेपाल बॉर्डर बिहार से सटा हुआ है। नेपाल के 12 जिले बिहार से सटे हैं।

आरपीएफ भी है गणतंत्र दिवस को लेकर चौकस

इधर, रेलवे प्रोटेक्शन फोर्स (आरपीएफ) भी गणतंत्र दिवस को लेकर चौकस है। गणतंत्र दिवस को लेकर फिलहाल ट्रेनों में सघन तलाशी, यात्रियों की जांच और रेलवे ट्रैक की नियमित निगरानी की जा रही है। मुजफ्फरपुर आरपीएफ के प्रभारी इंस्पेक्टर पीएस दूबे ने बताया कि गणतंत्र दिवस को लेकर आरपीएफ भी अलर्ट है। सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है। आने वाले दिनों में इसे और तेज किया जाएगा। खासकर दिल्ली, अम़ृतसर, जयनगर, सहरसा आदि की ओर से आने वाली ट्रेनों की निगरानी की जा रही है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.