भारत बंद: संयुक्त किसान मोर्चा का ‘भारत बंद’ आज, यूपी-गाजीपुर बॉर्डर को लेकर दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने जारी किया अलर्ट

नई दिल्ली। केंद्र सरकार के नए तीन कृषि कानूनों के खिलाफ संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा सोमवार (27 सितंबर) को आहूत ‘भारत बंद’ के मद्देनजर दिल्ली पुलिस ने सख्त कदम उठाया है. भारत बंद के मद्देनजर पुलिस ने राष्ट्रीय राजधानी की सीमाओं पर सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए हैं. इस बीच दिल्ली पुलिस ने यूपी-गाजीपुर बॉर्डर पर ट्रैफिक रोक दिया है, ताकि किसान किसी भी हाल में दिल्ली में प्रवेश न कर सकें. वहीं, किसान आंदोलन में शामिल 40 किसान संगठनों के संयुक्त किसान मोर्चा ने लोगों से बंद में शामिल होने की अपील की है. जबकि दिल्ली सरकार ने भारत बंद का समर्थन करने का फैसला किया है. भारत बंद शुरू होते ही किसानों ने यूपी-गाजीपुर सीमा पर एनएच-9 और एनएच-24 को जाम कर दिया है.

इतना ही नहीं दिल्ली पुलिस ने भारत बंद को लेकर अपने 15 जिलों की पुलिस को अलर्ट पर रखा है. इसके अलावा दिल्ली की सीमा, नई दिल्ली के इलाकों और लाल किले के आसपास भारी पुलिस बल और अर्धसैनिक बल तैनात किया गया है. जबकि दिल्ली पुलिस की यह सुरक्षा व्यवस्था सुबह 5 बजे से भारत बंद खत्म होने तक जारी रहेगी. वहीं, भारत बंद को लेकर डीएमआरसी भी अलर्ट पर है। इसके अलावा पुलिस उपायुक्त (नई दिल्ली) दीपक यादव ने कहा कि भारत बंद के मद्देनजर एहतियात के तौर पर सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम किए गए हैं. शहर की सीमा पर तीन विरोध स्थलों से किसी भी प्रदर्शनकारियों को दिल्ली में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। दिल्ली पुलिस के एक अन्य अधिकारी ने बताया कि एहतियात के तौर पर सुरक्षा बढ़ा दी गई है और पूरी तरह से सतर्क है। दिल्ली में भारत बंद का कोई आह्वान नहीं है, लेकिन हम घटनाक्रम देख रहे हैं और पर्याप्त संख्या में सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है।

संयुक्त किसान मोर्चा ने की ये अपील, आप समर्थन करें
भारत बंद पर संयुक्त किसान मोर्चा ने भी राजनीतिक दलों से लोकतंत्र और संघवाद के सिद्धांतों को बनाए रखने के लिए अपनी लड़ाई में भाग लेने के लिए कहा है। इसी के साथ संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा कि सुबह छह बजे से शाम चार बजे तक बंद का आयोजन किया गया है. जबकि दिल्ली की आम आदमी पार्टी ने भारत बंद को समर्थन देने का ऐलान किया है. आप की ओर से बयान में कहा गया कि वे किसानों के भारत बंद का समर्थन करेंगे. सत्ताधारी भाजपा ‘अन्नदाता’ की आवाज को दबाने के लिए तानाशाही रवैया अपना रही है। इसकी कीमत बीजेपी को चुकानी पड़ेगी.

भारत बंद का यहां होगा असर
भारत बंद के कारण सोमवार को सभी सरकारी और निजी कार्यालय, शैक्षणिक और अन्य संस्थान, दुकानें, उद्योग और व्यावसायिक प्रतिष्ठान बंद रहेंगे. सभी आपातकालीन प्रतिष्ठानों, सेवाओं, अस्पतालों, दवा की दुकानों, राहत और बचाव कार्यों और व्यक्तिगत आपात स्थिति वाले लोगों को संयुक्त किसान मोर्चा के बंद से बाहर रखा गया है।

गाजियाबाद: हजारी प्रसाद द्विवेदी की पोती बनी आईएएस, डॉ. अपाला मिश्रा को मिला 9वां रैंक

अभी तक किसानों और सरकार के बीच बातचीत नहीं हुई है
पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के किसान पिछले साल नवंबर से दिल्ली की सीमाओं पर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। प्रदर्शनकारी तीन कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग कर रहे हैं, जिससे उन्हें डर है कि न्यूनतम समर्थन मूल्य प्रणाली नष्ट हो जाएगी और उन्हें बड़े कॉरपोरेट्स की दया पर छोड़ दिया जाएगा। हालांकि, सरकार तीन कानूनों को प्रमुख कृषि सुधारों के रूप में पेश कर रही है। दोनों पक्षों के बीच 10 दौर से अधिक की वार्ता गतिरोध को तोड़ने में विफल रही है।

 

Source

Leave a Reply

Your email address will not be published.