रेलवे एसडीएफ: नए सिरे से विकसित हो रहे हैं रेलवे स्टेशन

नई दिल्ली (मानविया सोच) बहुत जल्द यात्रियों से लंबी दूरी की रेल यात्रा के दौरान एसडीएफ शुल्क वसूला जाएगा। नए सिरे से विकसित हो रेह रेलवे स्टेशनों के लिए यह शुल्क लिया जाएगा।  लंबी दूरी की ट्रेन यात्रा के दौरान रेलने यात्रियों से श्रेणी के आधार पर 10 रुपये से 50 रुपये तक स्टेशन विकास शुल्क (एसडीएफ) लगाने की योजना बना रहा है। अधिकारियों ने कहा कि बुकिंग के दौरान ट्रेन टिकट में शुल्क जोड़े जाने की संभावना है। नए सिर से विकसित जा रहे स्टेशनों के चालू होने के बाद ही शुल्क लगाया जाएगा।

प्लेटफॉर्म टिकट भी 10 रुपये महंगा होगा 
यूजर फीस तीन कैटेगरी में होगी। सभी एसी क्लास के लिए 50 रुपये, स्लीपर क्लास के लिए 25 रुपये और अनारक्षित क्लास के लिए 10 रुपये। रेलवे बोर्ड द्वारा जारी एक सर्कुलर के अनुसार उपनगरीय ट्रेन यात्रा के लिए कोई स्टेशन विकास शुल्क नहीं लिया जाएगा। इसमें कहा गया है कि इन स्टेशनों पर प्लेटफॉर्म टिकट भी 10 रुपये महंगा होगा।
स्टेशन विकास शुल्क (एसडीएफ) स्टेशनों पर चढ़ने व उतरने वाले यात्रियों से वसूला जाएगा। विकसित/पुनर्विकसित स्टेशनों के लिए श्रेणी-वार एसडीएफ निम्नानुसार लिया जाएगा। ऐसे स्टेशनों पर उतरने वाले यात्रियों से एसडीएफ की ऊपर बताई गई दर का 50 प्रतिशत लिया जाएगा। सर्कुलर में कहा गया है कि अगर दोनों ऐसे स्टेशनों पर चढ़ते/उतरते हैं तो उस स्थिति में एसडीएफ लागू दर का 1.5 गुना होगा।
एसडीएफ ऐसे सभी स्टेशनों पर एक समान होगा और एक अलग शुल्क के रूप में लागू जीएसटी के साथ लिया जाएगा। इसके लिए निर्देश अलग से जारी किए जाएंगे। अधिकारियों ने कहा कि एसडीएफ लगाने से रेलवे को निरंतर राजस्व मिलेगा। निजी निवेशकों को लुभाने के लिए रेलवे को वित्तीय रूप से मजबूत बना देगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.