प्रदूषण नियंत्रण : मेरठ में 15 साल पुराने सीएनजी लगे वाहनों पर पाबंदी

मेरठ। उत्तर प्रदेश के मेरठ शहर को आखिरकार 690 करोड़ रुपये का सबसे बड़ा तोहफा मिल गया है, जिसका लंबे समय से इंतजार किया जा रहा था. अब यहां 690 करोड़ की लागत से सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी मेरठ) लगाया जाएगा, जो न केवल कराहती काली नदी को नया जीवन देगा, बल्कि लोगों को नालों की दुर्गंध से भी मुक्ति मिलेगी. मेरठ को यह प्रोजेक्ट राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन के तहत मिला है। इससे पहले मेरठ को दिल्ली एक्सप्रेस-वे मिल चुका है और मेरठ से दिल्ली तक रैपिड रेल का काम युद्धस्तर पर चल रहा है. साथ ही शहर को आईटी हब बनाने की तैयारी अंतिम चरण में है।

अब मेरठ को 690 और नब्बे करोड़ रुपये का बड़ा तोहफा मिला है. मेरठ के नगर आयुक्त मनीष बंसल ने कहा कि अब यहां 690 करोड़ रुपये की लागत से सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट लगाने की मंजूरी मिल गई है. सरकार की इस मंजूरी के बाद प्रदूषण से कराह रही काली नदी को न सिर्फ नया जीवन मिलेगा, बल्कि लाखों की आबादी को नालों की दुर्गंध से भी मुक्ति मिलेगी. उन्होंने बताया कि अभी अबू नाला वन टू और ओडियन नाला का पानी बिना ट्रीटमेंट के काली नदी में जा रहा है. लेकिन 220 एमएलडी का एसटीपी प्लांट लगने के बाद नालों का पानी ट्रीट कर काली नदी में डाला जाएगा।

काली नदी को मिलेगा नया जीवन, मिलेगी दुर्गंध से मुक्ति

नगर आयुक्त मनीष बंसल का कहना है कि इससे जहां काली नदी को नया जीवन मिलेगा, वहीं नालों की दुर्गंध से भी लोगों को मुक्ति मिलेगी. नगर आयुक्त मनीष बंसल का कहना है कि आने वाले 24 महीनों में एसटीपी प्लांट चालू हो जाएगा. इससे एनजीटी के आदेशों के अनुपालन में भी आसानी होगी। वहीं, जल निगम इस काम के लिए जुट गया है. यूपी जल निगम के अधीक्षण अभियंता आरके अग्रवाल ने बताया कि एसटीपी के संबंध में टेंडर नोटिस दो-तीन दिन में जारी कर दिया जाएगा. उन्होंने बताया कि इस प्रोजेक्ट को नमामि गंगे ने पास किया था. लेकिन फंडिंग में दिक्कत आ रही थी। अब सारी मुश्किलें खत्म हो गई हैं, क्योंकि वर्ल्ड बैंक फंडिंग करने को राजी हो गया है. आरके अग्रवाल का कहना है कि 18 अक्टूबर को टेंडर खोलने का प्रस्ताव है। दिसंबर से पहले प्रोजेक्ट पर काम शुरू हो जाएगा।

एसटीपी के पानी का भी किया जा सकता है इस्तेमाल

जल निगम के अधिकारियों के मुताबिक एमएलई तकनीक पर 220 एमएलडी एसटीपी का निर्माण किया जाएगा। यह तकनीक पहले बनाए गए एसटीपी से बेहतर और गुणवत्तापूर्ण है। इस तकनीक से उपचारित पानी का उपयोग पेड़ों और पौधों की सिंचाई के लिए किया जा सकता है। यानी शुद्ध पानी का इस्तेमाल किया जा सकता है। दो बड़े नाले ओडियन और अबुनाला-दो बेगमपुल वाला नाला को 220 एमएलडी एसटीपी से जोड़ा जाएगा। इन नालों को टैप कर एसटीपी तक पानी पहुंचाया जाएगा। यहां से शुद्ध पानी ही काली नदी में बहाया जाएगा। इससे काली नदी का कालापन दूर होगा। सीवरेज ट्रीटमेंट क्षमता बढ़ाने के साथ ही शहर में सीवर लाइन बिछाने का मार्ग भी प्रशस्त होगा।

स्वच्छ गंगा के लिए राष्ट्रीय मिशन में परियोजना को मंजूरी

राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन को बहुप्रतीक्षित 220 एमएलडी सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट के निर्माण के लिए टेंडर जारी करने की मंजूरी मिल गई है। इस एसटीपी के बनने से शहर की सबसे बड़ी सीवेज निस्तारण समस्या का समाधान हो जाएगा और नालों का शुद्ध पानी ही काली नदी में बहेगा। यह एसटीपी कमालपुर स्थित 72 एमएलडी एसटीपी के पास छह हेक्टेयर जमीन पर बनेगा। जल निगम ने पहले ही जमीन को फाइनल कर लिया है। यह एसटीपी विश्व बैंक की मदद से बनाया जाएगा। इसकी कुल लागत करीब 690 करोड़ रुपए होगी। इसमें सिविल कंस्ट्रक्शन पर करीब 363 करोड़ खर्च किए जाएंगे। शेष राशि रखरखाव आदि पर खर्च की जाएगी।

सांसद राजेंद्र अग्रवाल ने नमामि गंगे कार्यक्रम के तहत प्रस्तावित 220 एमएलडी एसटीपी का निर्माण जल्द शुरू कराने की मांग केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत के समक्ष रखी थी. उन्होंने काली नदी का दर्द बयां किया था। नदी में बहने वाले नालों के सीवेज ने भूजल के दूषित होने और तपेदिक, कैंसर, पीलिया, हेपेटाइटिस बी जैसी गंभीर बीमारियों की चपेट में आने वाले लोगों का हवाला दिया था।

Source-Agency News

Leave a Reply

Your email address will not be published.