डेढ़ माह में निवेशकों को हो चुका इतना नुकसान, पेटीएम से हर दिन टूट रही उम्मीद

नई दिल्ली (मानवीय सोच) बीते साल 18 नवंबर को भारतीय शेयर बाजार में एक चर्चित कंपनी की लिस्टिंग हुई थी। ये कंपनी थी- पेटीएम की पैरेंट फर्म one97 कम्युनिकेशन। लिस्टिंग के दिन ही पेटीएम ने उन निवेशकों को तगड़ा नुकसान दिया, जिन्हें कंपनी का इनीशियल पब्लिक ऑफरिंग यानी आईपीओ अलॉट हुआ था। ऐसे निवेशकों का नुकसान हर दिन बढ़ता जा रहा है और फिलहाल, मुनाफे की उम्मीद भी टूटती दिख रही है।

कितना हो चुका नुकसान: पेटीएम के आईपीओ की लॉन्चिंग हुई थी तो इश्यू प्राइस 2150 रुपए था। मतलब ये कि कंपनी ने एक शेयर की कीमत 2150 रुपए तय की थी। हालांकि, जब आईपीओ की भारतीय शेयर बाजार में लिस्टिंग हुई, तब से स्टॉक की कीमत 2 हजार रुपए के स्तर को पार नहीं कर सकी है। मतलब ये हुआ कि पेटीएम का शेयर भाव इश्यू प्राइस के आसपास भी नहीं जा सका है। कंपनी का ऑल टाइम हाई लेवल 1,961.05 रुपए है, जो लिस्टिंग के दिन था।

कितनी है कीमत: 13 जनवरी 2022 को पेटीएम के स्टॉक की कीमत में 4 फीसदी से ज्यादा की गिरावट आई है। इस स्टॉक की कीमत 1035 रुपए के स्तर पर है। स्टॉक की ये कीमत इश्यू प्राइस से 53 फीसदी तक कम है। यूं समझ लीजिए कि स्टॉक की कीमत कंपनी की ओर से तय किए गए भाव की आधी हो गई है। वर्तमान में कंपनी का मार्केट कैपिटल 67,216 करोड़ रुपए है। लिस्टिंग के दिन कंपनी का मार्केट कैपिटल 1 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा था।

विजय शेखर शर्मा ने क्या कहा: शेयर बाजार में पेटीएम की खराब लिस्टिंग को लेकर फाउंडर विजय शेखर शर्मा का बयान भी आया है। हाल ही में उन्होंने कहा कि पेटीएम का आईपीओ ऐसे समय में आया जब बाजार कई अलग-अलग वजहों से प्रभावित था। पेटीएम की सफलता इस बात पर निर्भर करेगी कि फाइनेंसियल सर्विस के नेतृत्व में मोनेटाइजेशन के साथ क्या करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.