दुबई वर्ल्ड एक्सपो में भारत के एमएमएमई मंडप का उद्घाटन

नयी दिल्ली (मानवीय सोच) : दुबई में वैश्विक औद्योगिक प्रदर्शनी-वर्ल्‍ड एक्‍सपो, 2020 दुबई में भारत के सूक्ष्म, लघु और मझोले उद्योग (एमएसएमई) मंडप का सोमवार को उद्घाटन किया गया। इस अवसर पर खादी इंडिया फिल्म भी जारी की गयी।

आधिकारिक विज्ञप्ति के अनुसार सूक्षम एवं लघु उद्यम मंत्री नारायण राणे तथा उनके सहयोगी राज्‍य मंत्री भानु प्रताप सिंह वर्मा ने वीडियाे क्रांफ्रेंस के माध्यम से इस मंडप का उद्घाटन किया। इस अवसर पर एमएसएमई सचिव बी.बी. स्‍वैन तथा खादी ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी) के अध्‍यक्ष विनय कुमार सक्‍सेना और दुबई सरकार के कई अधिकारी और गणमान्‍य व्‍यक्ति कार्यक्रम से जुड़ थे।

इस अवसर पर श्री राणे ने कहा कि मंत्रालय का प्रयास निर्यात, उत्‍पाद गुणवत्‍ता, जीडीपी में योगदान के संदर्भ में नई ऊंचाइयों पर ले जाकर एमएसएमई के लिए नए मानक स्‍थापित करना है। उन्होंने कहा कि सरकार एमएसएमई इकाइयों के लिए विश्‍व स्‍तरीय बुनियादी सुविधाएं और अत्‍याधुनिक टेक्‍नोलॉजी प्रदान करने पर ध्यान दे रही है।

ब्‍यूरो इंटरनेशनल डी एक्‍सपोजि़शन (बीआईई) के अंतर्गत वर्ल्‍ड एक्‍सपो, 2020 दुबई का उद्देश्‍य प्रदर्शनी में विश्‍व के लाखों लोगों को एक साथ लाना तथा मानवीय प्रतिभा और उपलब्धियों को उजागर करना। एमएसएमई मंत्रालय ने कहा है कि एक्‍सपो में उसकी भागीदारी से भारत में एमएसएमई क्षेत्र के बारे में बाहरी दुनिया को समझाना तथा दूसरे देशों के अधिकारियों तथा व्‍यावसायिक और उद्योग जगत की हस्तियों के साथ आपसी संवाद विकसित करना है। मंत्रालय को विश्वास है कि इस भागीदार में इस क्षेत्र के भागीदारों को विश्‍वभर में अपनाये जाने वाले श्रेष्‍ठ व्‍यवहारों के आदान-प्रदान में मदद मिलेगी।

श्री राणे ने कहा कि एमएसएमई क्षेत्र रोजगार सृजन करने और मैन्‍युफैक्‍चरिंग आधार को बढ़ाने के संदर्भ में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाता है। आज एमएसएमई की छह करोड़ से अधिक इकाइयों में 11 करोड़ से ज्‍यादा लोग रोजगार में हैं और यह क्षेत्र आर्थिक विकास में महत्‍वपूर्ण योगदान देता है। जीडीपी में इस क्षेत्र का योगदान 30 प्रतिशत से अधिक और भारत से समग्र निर्यात में इसका योगदान 48 प्रतिशत से अधिक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.