1 अप्रैल से दोगुने होंगे दाम, LPG की कीमतों में होने जा रही जोरदार बढ़ोतरी

नई दिल्ली (मानवीय सोच) आम आदमी को महंगाई के मोर्चे पर जबरदस्त झटका लगने वाला है। जहां एक तरफ आपको खाना बनाना महंगा पड़ने वाला है। वहीं, दूसरी तरफ गाड़ी चलाना भी कोस्टली पड़ेगा। दरअसल, इस समय दुनियाभर में गैस की भारी किल्लत हो गई है और इसका असर अब भारत में भी पड़ सकता है। ऐसे में 1 अप्रैल 2022 से घरेलू गैस की कीमतें दोगुनी हो सकती है। यह बात इकोनॉमिक टाइम्स की एक रिपोर्ट में कही गई है।

CNG और PNG के भी बढ़ेंगे रेट
ईटी की रिपोर्ट के मुताबिक, घरेलू गैस की कीमतों के अलावा गैस संकट का असर सीएनजी, पीएनजी  पर भी देखी जा सकती है। यानी सीएनजी और पीएनजी महंगी हो सकती है। इतना ही नहीं बिजली की कीमतें भी बढ़ जाएगी और सरकार का फर्टिलाइजर सब्सिडी बिल भी बढ़ेगा।

कोरोना के चलते वैश्विक अर्थव्यवस्था को झटका
कोरोना के वैश्विक महामारी के चलते एनर्जी की मांग में जबरदस्त की तेजी आई है लेकिन सप्लाई के मामले में फिसड्डी रहा, पिछले साल सप्लाई को लेकर कोई खास कदम नहीं उठाए गए जिसके चलते गैस की कीमतें रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गई। इससे वैश्विक अर्थव्यवस्था को तगड़ा झटका लगा है। आपको बता दें कि घरेलू इंडस्ट्रीज पहले से लॉन्ग टर्म कॉन्ट्रैक्ट्स के चलते आयातित एलएनजी (LNG)  के लिए अधिक कीमतों का भुगतान कर रही है।

अप्रैल में लागू होंगी नई कीमतें 
बता दें कि दुनियाभर में गैस संकट का असर भारत में अप्रैल से देखी जा सकती है। ऐसा इसलिए क्योंकि अप्रैल में सरकार नेचुरल गैस की घरेलू कीमतों में संशोधन करती हैं। ऐसे में एनालिस्ट्स का मानना है की घरेलू गैस कीमतें बढ़ेंगी। बता दें कि घरेलू नेचुरल गैस की कीमतें हर साल अप्रैल और अक्टूबर में तय होती है और यह अंतरराष्ट्रीय कीमतों के अनुसार निर्धारित की जाती हैं। जनवरी से दिसंबर 2021 तक अंतरराष्ट्रीय कीमतों के आधार पर अप्रैल की कीमत तय की जाएगी।

क्या कहते हैं एक्सपर्ट
गैस इंस्ट्रीज के अधिकारियों और विश्लेषकों के मुताबिक, इसे वर्तमान में 2.9 डॉलर प्रति एमएमबीटीयू से बढ़ाकर 6 से 7 डॉलर किया जा सकता है। रिलायंस इंडस्ट्रीज के अनुसार, गहरे समुद्र के क्षेत्रों से गैस की कीमत सीमा 6.13 डॉलर से बढ़कर लगभग 10 डॉलर हो जाएगी। मार्केट जानकारों की मानें तो, घरेलू नेचुरल गैस की कीमतों में प्रत्येक डॉलर की वृद्धि के लिए सीएनजी की कीमत में 4.5 रुपये प्रति किलोग्राम की वृद्धि की आवश्यकता होगी। इसका मतलब है कि सीएनजी की कीमत में लगभग 15 रुपये प्रति किलोग्राम की बढ़ोतरी हो सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.