अखिलेश यादव

अखिलेश ने पीलीभीत लोकसभा सीट से इस दिग्गज नेता को घोषित किया प्रत्याशी

भाजपा में वरुण गांधी को लेकर चल रही खींचतान का परिणाम देखने के बजाय सपा ने कुर्मी कार्ड खेल दिया। बुधवार को सपा ने पूर्व मंत्री भगवत सरन गंगवार को प्रत्याशी घोषित कर दिया। अब भाजपा के कदम का इंतजार किया जा रहा कि वरुण पर भरोसा जताया जाएगा या विकल्प की तलाश पूरी होगी।

यह चर्चा गति पकड़ती जा रही, इससे इतर दोपहर को वरुण गांधी के लिए उनके प्रतिनिधि कमलकांत ने नामांकन पत्र ले लिया, जिसके बाद माना जा रहा कि वरुण गांधी पीलीभीत से ही लोकसभा चुनाव का मन बना चुके हैं। अब देखना होगा कि भाजपा उन्हें टिकट देगी या वह कोई अन्य रास्ता तैयार करेंगे।

तीन बार विधायक रह चुके हैं भगवत सर गंगवार

भगवत सरन गंगवार बरेली के नवाबगंज से तीन बार विधायक रह चुके हैं। सपा शासनकाल में उन्हें दो बार मंत्री बनाया गया। वर्ष 2009 और 2019 के लोकसभा चुनाव में पार्टी ने उन्हें बरेली संसदीय क्षेत्र से प्रत्याशी बनाया मगर, जीत तक नहीं पहुंच सके।

अब पार्टी ने उन्हें पीलीभीत से प्रत्याशी बनाया है। संसदीय क्षेत्र के बरखेड़ा, बीसलपुर, शहर और बहेड़ी (बरेली) में कुर्मी मतदाताओं की संख्या ठीक है। इसे ध्यान में रखते हुए भगवत सरन गंगवार को मैदान में उतारा गया।

पीलीभीत सीट से ही चुनाव लड़ेंगे वरुण गांधी

सांसद वरुण गांधी को भाजपा टिकट देगी या नहीं, यह सूची जारी होने से ही स्पष्ट हो सकेगा। छह महीने से उनकी सक्रियता, गांवों के दौरे आदि के आधार पर माना जा रहा कि वह चुनावी तैयारी पूरी कर चुके हैं।

बुधवार को नामांकन पत्र खरीदे जाने से यह प्रमाणित भी होता दिख रहा। इसके अलावा, इस सीट से प्रदेश में लोक निर्माण मंत्री जितिन प्रसाद गन्ना विकास एवं चीनी उद्योग राज्यमंत्री संजय सिंह गंगवार, केंद्रीय राज्यमंत्री बीएल वर्मा, पूर्व सांसद बलराज पासी, पूर्व राज्यमंत्री हेमराज वर्मा, पूर्व विधायक किशनलाल राजपूत के नाम भी चर्चा में हैं। भाजपा की ओर से 22 मार्च को उम्मीदवार के नाम की घोषणा होने की संभावना जताई जा रही है।